unseen passage for class 3 in hindi

unseen passage for class 3 in hindi

 

 

unseen passage for class 3 in hindi
unseen passage for class 3 in hindi

 

  1. बाघ और बकरी
  2. गरमी की छुट्टियाँ
  3. बछड़े का सफर
  4. पानी का महत्व
  5. जंगल यात्रा

 

 

  • बाघ और बकरी

 

एक जंगल में एक बाघ और एक बकरी मित्र थे। वे हमेशा मिलकर खेलते थे। बाघ बहुत तेज था और उसके पास दौड़ने की ताकत थी। वह अपनी दोस्त बकरी को अक्सर पीछे छोड़ जाता था। बकरी उससे कहती, “बाघ भागने में तुम मुझसे बेहतर हो, परन्तु मैं भी तेज हूँ। तुम मेरे पीछे कूद कर देखो, मैं भी तुम्हारे सामने पहुंचूंगी।”

एक दिन, जंगल में एक चीड़िया ने उन्हें रेस करने के लिए चुना। उन्होंने कहा, “आज हम एक दौड़ कर दिखाएंगे। जो जल्दी से पहले पेड़ तक पहुंचता है, वह विजयी होगा।”

चीड़िया ने शुरुआत की और बाघ और बकरी दौड़ने लगे। बाघ बहुत तेज था, लेकिन बकरी भी कम नहीं थी। दौड़ते दौड़ते उन्हें एक झाड़ू मिला। बाघ उसको देखकर रुक गया। वह सोचने लगा कि वह अब क्या करे। दूसरी ओर, बकरी दौड़ती रही और जल्दी से पेड़ तक पहुंच गई। वह विजयी हो गई।

बाघ और बकरी ने सीखा कि सफलता हासिल करने के लिए दृढ़ संकल्प और अधिक प्रयास की जरूरत होती है। वे फिर से मित्र बन गए और मिलकर खेलना जारी रखा।

मोरल: ‘अधिक प्रयास करने से हर काम संभव होता है।’

 

 

  • गरमी की छुट्टियाँ

 

आज से दस दिन पहले, स्कूल की गरमी की छुट्टियाँ शुरू हो गईं। रोहन बड़ी खुशी से घर लौटा। उसके माता-पिता ने उसे घर आते ही बड़ी खुशी से गले लगाया।

घर वापस आकर रोहन ने देखा कि उसके रोज़ाना काम हैं। उसे घर की सभी साफ़-सफ़ाई करनी थी। उसके रोज़ाना काम में खेलने का समय नहीं रहता था। रोहन थोड़ा उदास हो गया।

फिर उसने अपने पिता से पूछा, “पापा, इतने दिनों की छुट्टियों में भी इतने सारे काम करने की क्या ज़रूरत है? मेरे दोस्त तो खेलने जा रहे हैं, और मैं घर में काम कर रहा हूँ।”

पिता ने मुस्कराते हुए कहा, “रोहन, काम करना भी बड़ी बात है। यह तो तुम्हारे और तुम्हारे परिवार के लिए ही होता है। इससे हमारा घर सजता-सवरता रहता है और सबका ध्यान ख़ूब रहता है। और फिर, बाद में जब तुम काम समाप्त करोगे, तो तुम्हारे पास खेलने का भी समय होगा। तब तुम और मजे से खेल सकोगे।”

रोहन ने अपने पिता के वचन को समझा और खुशी से काम में लग गया। उसने सोचा कि उसके पिता ने सही कहा है। काम करने से हमारे घर की देखभाल होती है और सभी का प्यार भी मिलता है।

दस दिन बाद, रोहन ने अपने दोस्तों से मिलकर खेला। उसके दिन और खास बन गए क्योंकि उसने पहले काम समाप्त किया और फिर खेलने का मजा लिया। उसने अपने पिता को धन्यवाद दिया क्योंकि उनकी सही राह देखने से उसे अच्छी आदतें बन गईं।

मोरल: ‘काम करना और सही समय पर खेलना भी महत्वपूर्ण है।’

 

 

  • बछड़े का सफर

 

एक छोटा सा बछड़ा जंगल में अकेला रहता था। उसे अपने माता-पिता की याद बहुत आती थी। एक दिन, वह अपने माता-पिता की तस्वीरें ढूंढने का सोचा। उसके माता-पिता की तस्वीरें वह अपने पिताजी की पुरानी खासी पुस्तकों में मिल सकती थी।

बछड़े ने मन में ठान लिया कि वह जंगल के दूर-दूर तक सफर करेगा और अपने माता-पिता की तस्वीरें ढूंढेगा। इससे पहले कि उसके दोस्त चीता उसे रोक पाएं, बछड़े ने जंगल के रास्तों को जाना शुरू कर दिया।

बछड़े के सफर में उसके दोस्त चीता और हाथी भी उसके साथ चले। वे सब मिलकर जंगल के खूबसूरत नजारों को देखते रहे। रास्ते में उन्हें बहुत सारी मुश्किलें भी आईं, पर वे एक दूसरे का साथ नहीं छोड़े।

अंत में, बछड़े को अपने पिताजी की तस्वीरें मिल गईं। वह तस्वीरें बछड़े के लिए बहुत कीमती थीं। उसका मन खुशी से झूम उठा।

वापस आने पर, उसने चीता और हाथी को धन्यवाद दिया। उसने सीखा कि अगर हम मिलकर साथ में काम करें, तो हर कठिनाई को आसानी से पार किया जा सकता है।

मोरल: ‘साथी और सहयोगी का महत्व समझो।’

 

  • पानी का महत्व

 

पानी हमारे जीवन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। हम सभी जीवों के लिए पानी एक जीवनदायक स्रोत है। बिना पानी के, प्राकृतिक और सामाजिक जीवन संभव नहीं है।

पानी की उपयोगिता विभिन्न क्षेत्रों में होती है। हम पानी को पीने के लिए उपयोग करते हैं, खाना पकाने में उपयोग करते हैं, सब्जियों और फलों को उगाने में उपयोग करते हैं और भी बहुत कुछ।

हालांकि, आजकल पानी की कमी की वजह से लोगों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इसलिए, हमें पानी के सही उपयोग के प्रति जागरूक रहना चाहिए। हमें पानी की बर्बादी रोकने के लिए उसे बचाने के लिए सावधान बनना चाहिए।

इसलिए, हम सभी को जिम्मेदारीपूर्वक पानी का सही इस्तेमाल करना चाहिए। पानी को बचाने के लिए हमें रोज़ाना इसके बरतनों की सफाई करनी चाहिए, बिना ज़रूरत के ना बहाना चाहिए और बारिश के पानी को संग्रह करके उसका उपयोग करना चाहिए।

इस तरह से, हम सभी मिलकर पानी की समस्या को दूर कर सकते हैं और आने वाले समय में पानी के लिए संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा।

 

  • जंगल यात्रा

 

गाँव के पास एक छोटा सा जंगल था। वहां रहने वाले जानवर और पक्षियों को यहाँ खुली हवा मिलती थी। रोजाना सुबह जंगल की तरफ निकलने का मन बच्चों को भी बहुत था।

एक बार चार दोस्त – राजू, मोहन, रितु और गीता, सोमवार को स्कूल के बाद जंगल जाने का फैसला किया। सभी बच्चे बहुत उत्साहित थे।

जंगल में पहुँचते ही उन्होंने कई सुंदर पक्षियों को देखा। वे सभी मिलकर बच्चों को अपने रंगीन पंख दिखा रहे थे। राजू ने देखा कि वहां एक सियार भी था। वह धीरे-धीरे पास जा कर उसे देखने लगा। उसके बच्चे भी साथ में खेल रहे थे।

गीता और रितु ने एक पेड़ के नीचे बैठकर चिंती और मकड़ी को देखना शुरू किया। वे दोनों ही चिंती और मकड़ी को देखने में बहुत मज़े कर रहे थे।

समय का चक्कर पल भर में घूम गया और बच्चों को घर जाने का समय हो गया। सभी बच्चे जंगल से घर की तरफ चल पड़े। रास्ते में उन्होंने एक-दूसरे के साथ अपने-अपने अनुभव साझा किये और खूब हँसे।

इस छोटे से जंगल का यात्रा उन्हें अच्छी तरह से मज़ा आया था और वे सभी दोस्त मिलकर एक अच्छी याद बनाने वाले दिन बिता चुके थे।

 

 

Leave a Comment